Category: मुद्दे

समकालीन  देश के प्रमुख मुद्दों पर विचार एवं विश्लेषण

0

हमारे नये टीचर

क्लास में आते हीहमारे नये टीचर नेबच्चों कोअपना लंबा चौड़ा परिचय दियाबातों ही बातों मेंउसने जान लिया कीलड़कियों के इस क्लास मेंसबसे तेज और सबसे आगेकौन सी लड़की है ? हमारे नये टीचर नेखामोश...

मज़बूरी में चिल्लाता है 0

विकृत विकास का क़हर

विकृत विकास का क़हर, फेफड़ों में घुलता ज़हर ..! विकास के नाम पर मुनाफ़ा कूटने की अनियंत्रित अन्धी हवस और धनपतियों की विलासिता की क़ीमत जहाँ ग़रीब मेहनतकश आबादी अपनी हडि्डयाँ गलाकर चुकाती है,...

0

ये हीरू ओनेडा हैं

ये हीरू ओनेडा हैं । जापान की इम्पीरियल आर्मी का सिपाही, जिसने जिंदगी के 30 साल दूसरा विश्वयुद्ध लड़ते हुए गुजार दिए।दूसरे विश्वयुद्ध के पूर्व जापान में राजशाही, वस्तुतः एक फासिस्ट किस्म के सिस्टम...

0

प्लास्टिक

प्लास्टिक …लोग-बाग पेड़ का तना या डाल पकड़कर उस पर चढ़ते हैं। लेकिन, सरकारें फुनगी पकड़कर पेड़ पर चढ़ना चाहती हैं। जरा सोचिए, क्या फुनगी पकड़कर पेड़ पर चढ़ना संभव है। तो फिर यह...

0

मानसिक समस्याएं और स्टिग्मा

मानसिक समस्याएं और स्टिग्मा । जी हाँ मेरे एक फिजिसियन दोस्त ने बताया कि जब उन्होंने डिप्रेशन से ग्रसित एक व्यक्ति को ये कहा कि आपके सारे लक्षण डिप्रेशन नामक बीमारी के लगते हैं...

श्लीलता से अश्लीलता की ओर 0

श्लीलता से अश्लीलता की ओर

हम श्लीलता से अश्लीलता की ओरअग्रसर होते जा रहे हैं ।अपनी संस्कृति को सीमित करते हुएपश्च्यात में विस्तृत हो खुद कोसंकुचित करते जा रहे हैं। हमने स्त्री में ही क्योंचिन्हित की अश्लीलता पैमाइशहमने स्त्री...

error: Content is protected !!