Category: सामान्य ज्ञान

सामान्य ज्ञान सम्बंधित प्रमुख मुद्दों पर विचार एवं विश्लेषण

0

क्यों हुई अर्थव्यवस्था बीमार

क्यों हुई अर्थव्यवस्था बीमारराजनीती की ऐसी विसातऔर सियासत में,अब जनता पिसरही है बीच लाइन मेंनोट बदलने की,लगी है बैंक में,लंबी रोज़ कतार। भिनसारे से,अफरा-तफरी,धक्का-मुक्की होती।बेचारी जनतालाइन में पल-पल धीरज खोती।।भीड़-भाड़ में,नया बखेड़ा,रोज नयी तकरार।।...

काशी की कशमकश 0

काशी की कशमकश

काशी की कशमकश “कलाम -ऐ- पाक की कसमें,आयत और रवायत भीतुम्हारी शातिराना चुप्पीऔर मजहब की हिमायत भीसभी ज़िंदा थीं कलकाशी के किनारों परउसी काशी की बेटी कोतुमने मार डाला है खून के कतरे औरबिखरे...

2

कोई मुसाफ़िर उतरा होगा

दुख की लहर ने छेड़ा होगायाद ने कंकड़ फेंका होगाआज तो मेरा दिल कहता हैतू इस वक़्त अकेला होगाभीग चलीं अब रात की पलकेंतू अब थक कर सोया होगाशहर के ख़ाली स्टेशन परकोई मुसाफ़िर...

0

चलता फिरता यंत्र नहीं

तू जिंदा हैं,तो जिंदा होने का सबूत दे,सीने में धड़कन हैं,तो धड़कने का सबुत दे।चलता फिरता यंत्र नहींइंसान होने का सबूत दे।लांछित वंचित हैंतो मेरे साथी होने का सबूत दे,हालात से द्रवित हैंतो पिघलते...

0

पहली बार ऐसा हुआ

एक लड़की थीरात को office सेवापस लौट रही थीदेर भी हो गई थी…पहली बार ऐसा हुआऔर काम भी ज्यादा था तोTime का पता ही नहीं चलावो सीधे auto stand पहुँची | वहाँ एक लड़का...

1

आओ आज बताता हूं

आओ आज बताता हूंक्यूं करता हूं तुमसे प्यारजिस दिन से तुमको देखा हैनहीं पता क्या है संसारसचमुच तुम सुंदर हो बहुतजैसे हो देवी अवतारमेरे जीवन की बगिया मेंतुम हो जैसे बसंत बहारतुम ममता की...

error: Content is protected !!