Tagged: अमित सिंह शिवभक्त नंदी

0

हमारे नये टीचर

क्लास में आते हीहमारे नये टीचर नेबच्चों कोअपना लंबा चौड़ा परिचय दियाबातों ही बातों मेंउसने जान लिया कीलड़कियों के इस क्लास मेंसबसे तेज और सबसे आगेकौन सी लड़की है ? हमारे नये टीचर नेखामोश...

0

फिर भी मेरा देश महान

“हिरण मारा गोली से,गाडी से इंसान,कानून मारा पैसों से,फिर भी मेरा देश महान”कायर उसे न कहियेजो चला गया,इनसान सबसे ,लडकर,,,जीत सकता हैपर वक्त से नहीं… मरने के लिए बड़ी हिम्मतचाहिए होती है,यकीन नही होतातो...

तुम मेरे शिव बन जाना 0

तुम मेरे शिव बन जाना

तुम मेरे शिव बन जाना,औरमुझको अपना नंदी बनानादेश मे व्याप्तसारा का सारा गरल पी लेना।जो भी सम्मुख उगला है,उसे अपने अंदर ही समेटे रखना। जीना सरल है…प्यार करना सरल है…..हारना और जीतना भी सरल...

0

उसने अपना घर बनाया

उसने अपना घर बनायाऔकात तो जन्म सेही नहीं छोड़ी थी आपने।उसने घास फूस का घर बनाया।आपने उसे तोड़ दिया।उसने गारा गोबर से घर बनाया।आपने उसे तोड़ दिया।उसने कच्ची ईंटों से घर बनाया।आपने उसे तोड़...

रंग बदलते देखा है 0

रंग बदलते देखा है

सुन्दर कविता जिसके अर्थ काफी गहरे हैं……..मैंने .. हर रोज .. जमाने को ..रंग बदलते देखा है ….उम्र के साथ .. जिंदगी को ..ढंग बदलते देखा है .. !!वो .. जो चलते थे ..तो...

0

आप दिल के भी समंदर होते

सुरमई शाम का मंज़र होते, तो अच्छा होताआप दिल के भी समंदर होते, तो अच्छा होता!बिन मिले तुमसे मैं लौट आया, कोई बात नहींफिर भी कल शाम को तुम घर होते, तो अच्छा होता!!...

error: Content is protected !!