Tagged: दान और श्रमदान

12

संत गाडगे बाबा जी के अनछुए पहलू- भाग-2..

संत गाडगे जी बाबा साहेब डाॅं0 भीमराव आम्बेडकर के समकालीन थे, उम्र में 15 साल बड़े थे। यह वह समय था जब उनके जैसे ना जाने कितने अछूत युवक सामाजिक विषमता के भयावह अंधकार...

1

सामाजिक क्रांतिप्रतीक गाडगे का झाड़ू

संत गाडगे ने परम्परागत साधु संतों की भक्ति,चंदन-टीका, मूर्ति-पूजा, मूर्ति-चढ़ावा चढ़ाने आदि का बाह्याडम्बर करने की लीक से हटकर पुरुषार्थ और लोक-सेवा को अपना आदर्श बनाया। उन्होंने कहा कि वेद पुराण में जो ज्ञान...

error: Content is protected !!